धामी सरकार के इस कैबिनेट मंत्री की कुर्सी पर गहराया संकट! विधानसभा बैकडोर भर्ती में जमकर हो रही किरकिरी

विधानसभा की बैकडोर भर्तियां रद होने के बाद कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल की कुर्सी पर भी संकट गहरा गया है। भाजपा हाईकमान जनता को संदेश देने के लिए बड़ा कदम भी उठा सकता है। स्पीकर रहते प्रेमचंद अग्रवाल के कार्यकाल में विधानसभा में बैकडोर से 100 भर्तियां हुई थी, इनमें 72 तो विधानसभा चुनाव से ऐनवक्त पहले की गई थीं।

इनमें भाजपा नेताओं, संघ के पदाधिकारियों के साथ करीबियों को ये नौकरियां बांटने का आरोप है। राज्य में ही नहीं देश में भी इसकी गूंज सुनाई दी है। इस मामले में सबसे ज्यादा तूल तब पकड़ा, जब कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद का बयान सामने आया। वे बार-बार इन भर्तियों को नियम संगत, अपना विशेषाधिकार और पूर्व में हुई भर्तियों से जोड़कर तर्क देते नहीं थक रहे थे।

इससे भाजपा संगठन भी असहज स्थिति में आ गया था। अब मौजूदा स्पीकर ऋतु खंडूड़ी ने एक सिरे से इन्हें और तत्कालीन स्पीकर गोविंद सिंह कुंजवाल के कार्यकाल में हुई बैकडोर भर्तियों को रद कर दिया है। स्पीकर के इस फैसले से जहां भाजपा संगठन को जहां कुछ हद तक राहत मिली, वहीं कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल की मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं।

बलबीर रोड स्थित भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में चर्चा है कि पार्टी के वरिष्ठ नेता इन भर्तियों को लेकर खासे नाराज हैं और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के साथ ही स्पीकर खंडूड़ी को भी अपने रुख से संकेत दे चुके थे। दरअसल,  हाईकमान भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद और परिवार वाद पर चोट कर रहा है।  वहीं, भाजपा की सरकार के रहते विधानसभा में बैकडोर से चहेतों को भर्तियां बांट दी गईं।

मुख्यमंत्री धामी और भाजपा संगठन को डैमेज कंट्रोल पर उतरना पड़ा। कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद इन दिनों जर्मनी के सरकारी टूर पर हैं। 25 सितंबर को उनकी वतन वापसी है। सूत्रों ने कहा कि पार्टी अगले कुछ दिनों के भीतर कोई बड़ा एक्शन भी ले सकती है। शुक्रवार को भी भाजपा प्रदेश मुख्यालय में भी  लेकर कई तरह की चर्चाएं रहीं।

भाजपा की नीति में भाई भतीजावाद नहीं: पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत
पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत ने कहा है कि भाजपा की नीति में कहीं भी भाई-भतीजावाद और परिवारवाद के लिएजगह नहीं है। उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी के फैसले का भी स्वागत किया। त्रिवेंद्र से जब विधानसभा के दो कालखंडों की नियुक्तियों को रद करने से जुड़ा सवाल पूछा तो उन्होंने फैसले को स्वागतयोग्य बताया।

उन्होंने कहा कि उन्होंने पहले ही कहा था कि जांच पूरी होने पर दूध का दूध और पानी का पानी होगा। स्पीकर खंडूड़ी ने जांच के लिए जो कमेटी बनाई, वह लोगों की अपेक्षाओं पर खरी उतरी है। भाजपा में भाई-भतीजावाद और परिवारवाद को किसी भी प्रकार जगह नहीं है। पार्टी की अपनी रीति-नीति और सिद्धांत है।अगर कोई इस रीति-नीति का उल्लंघन करता है, कानून उन्हें सजा देता ही है। चाहे कोई आईएएस अफसर ही क्यों न हो। त्रिवेंद्र बोले, देश का संविधान सबको बराबर का हक देता है। युवा पीढ़ी से खिलवाड़ का किसी को हक नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *